Recent Posts

Friday, October 7, 2011


The term Devi represents the Divine power, which has taken a mighty form to suppress the forces of evil and protect righteousness. Whenever the forces of injustice and selfishness grow to frightening proportions, and when people have lost all sense of compassion, God assumes a form of Sakthi (the female divine principle), to destroy the rampant evil. Develop good qualities and cultivate love among the people. Spiritual festivals are meant to promote divine love in us. It is to confer such love on the people that the Lord incarnates on earth. He showers His love on everyone and teaches us how to love. Experience this love and joy in your life and live in peace.

Wednesday, September 14, 2011

SOCH VICHAR: The mind is like a cloth and there are three diffe...

SOCH VICHAR: The mind is like a cloth and there are three diffe...: Attachment makes the mind dwell on the things of the world. When the mind is free of attachment, it remains unaffected by the objective wor...

The mind is like a cloth and there are three different impulses which colour it:


Attachment makes the mind dwell on the things of the world. When the mind is free of attachment, it remains unaffected by the objective world. The mind is like a cloth and there are three different impulses which colour it: sathwic, pure impulses which make it white;rajasic, restless tendencies that turn it red, while thamasic, slothful impulses that give it a black colour. Some people find these impulses extremely difficult to control even after many years of practice. If you are disturbed by such inclinations, you must fortify yourself with faith and act to conquer them by will power. Meditation and concentration can help you overcome these impulses.

Wednesday, February 16, 2011

jo chhaaho..... kya woh ho jaata hai... mil jaata hai....


jo chhaaho.....
kya woh 
ho jaata hai...
mil jaata hai....

chaahne-na-chaahne 
se kuch naheen hota

jo 
mil jaaye.....
jo 
mukqaddar mein hai
use 
kabool kar lena....


apni 
izzat ke liye 
ladne kee 
zaroorat naheen

log 
izzat denge 
agar 
tumhein 
izzat ke 
kaabil paayenge


lad kar 
tum.....  
kisi ke dil mein 
izzat paida 
naheen ker saktee

ladna  to .....
rape hai.....
blaatkaar hai.....

blaat...kaar   
yaani 
woh  kaam 
jo zabardastee 
kiya jaaye 
woh 
blaatkaar hee hai 

aur 
jo kaam 
zabardasti 
karwaya jaaye 
woh bhee to 
blaatkaar hee hua

Tuesday, February 15, 2011

RISHTA TO RISHTA HAI


RISHTA........
APNE AAP MEIN IK NAAM HAI...
IS PER ....
AITRAAZ KARNA
AUR
NAYAA NAAM TALAASAHNA
RISHTE KI TOHEEN HOGI....

RISHTON KI
TIZAARAT KARNE WAALE
AISI
BEHOODA HARKATEIN
KIYA KARTE HAIN


IK DOOSRI SOCH.....
RISHTON KO
NAAM KE BANDHAN MEIN
MAT BAANDHO YAARO..........
RISHTA TO RISHTA HAI..
CHAAHE JIS NAAM SE
PUKAARO YAARO

AATAM-BODH


Patangain ud rahee theen
haan...patangain ud rahee theen
kaali, neeli, peeli, laal
haree, zaamunee aur narangee

ki pakshi jaa rahe th-e
hamein yoon bata rahe th-e

yeh zindgee
choti cee hai
aakhir sabhee ne jaana

Is duniyan mein...Is ghar mein
Is gaanv mein...nagar mein
'TANPUR' mein
naheen hai 
kisee ka bhee 
pakka thikaana

Patangain ud rahee theen
woh jyoon bataa rahee theen
yoon hi AATMA ud jaayegi,
us deep mein mil jaayegi
banaaya jis-ne sab-ko hai
ki milna jis-mein sab-ko hai

ki pakshi jaa rahe th-e
woh yoon bata rahe th-e

aaj yahaan-kal wahaan
rehna kis-ko hai yahan
Kshan-bhangur hai jahan

Patangain ud rahee theen
ki pakshi jaa rahe th-e

Saturday, February 5, 2011

CAN YOU IMAGINE: ABOUT .........WHICH GREAT SAINT ......................................IS ALL THIS


1. 
सादा जीवन, उच्च विचार


उसके जीने का ढंग बड़ा सरल था. पुराने और मैले कपड़े, बढ़ी हुई दाढ़ी, महीनों से जंग खाते दांत और पहाड़ों पर खानाबदोश जीवन. जैसे मध्यकालीन भारत का फकीर हो. जीवन में अपने लक्ष्य की ओर इतना समर्पित कि ऐशो-आराम और विलासिता के लिए एक पल की भी फुर्सत नहीं. और
विचारों में उत्कृष्टता के क्या कहने! 'जो डर गया, सो मर गया' जैसे संवादों से उसने जीवन की क्षणभंगुरता पर प्रकाश डाला था.


२. दयालु प्रवृत्ति: 



ठाकुर ने उसे अपने हाथों से पकड़ा था. इसलिए उसने ठाकुर के सिर्फ हाथों को सज़ा दी. अगर वो चाहता तो गर्दन भी काट सकता था. पर उसके ममतापूर्ण और करुणामय ह्रदय ने उसे ऐसा करने से रोक दिया.


3. नृत्य-संगीत का शौकीन: 



'महबूबा ओये महबूबा' गीत के समय उसके कलाकार ह्रदय का परिचय मिलता है. अन्य डाकुओं की तरह उसका ह्रदय शुष्क नहीं था. वह जीवन में नृत्य-संगीत एवंकला के महत्त्व को समझता था. बसन्ती को पकड़ने के बाद उसके मन का नृत्यप्रेमी फिर से जाग उठा था. उसने बसन्ती के अन्दर छुपी नर्तकी को एक पल में पहचान लिया था. गौरतलब यह कि कला के प्रति अपने प्रेम को अभिव्यक्त करने का वह कोई अवसर नहीं छोड़ता था.


4. अनुशासनप्रिय नायक: 



जब कालिया और उसके दोस्त अपने प्रोजेक्ट से नाकाम होकर लौटे तो उसने कतई ढीलाई नहीं बरती. अनुशासन के प्रति अपने अगाध समर्पण को दर्शाते हुए उसने उन्हें तुरंत सज़ा दी.


5. हास्य-रस का प्रेमी: 



उसमें गज़ब का सेन्स ऑफ ह्यूमर था. कालिया और उसके दो दोस्तों को मारने से पहले उसने उन तीनों को खूब हंसाया था. ताकि वो हंसते-हंसते दुनिया को अलविदा कह सकें. वह आधुनिक युग का 'लाफिंग बुद्धा' था.


6. नारी के प्रति सम्मान:



 बसन्ती जैसी सुन्दर नारी का अपहरण करने के बाद उसने उससे एक नृत्य का निवेदन किया. आज-कल का खलनायक होता तो शायद कुछ और करता.


7. भिक्षुक जीवन:



 उसने हिन्दू धर्म और महात्मा बुद्ध द्वारा दिखाए गए भिक्षुक जीवन के रास्ते को अपनाया था. रामपुर और अन्य गाँवों से उसे जो भी सूखा-कच्चा अनाज मिलता था, वो उसी से अपनी गुजर-बसर करता था. सोना, चांदी, बिरयानी या चिकन मलाई टिक्का की उसने कभी इच्छा ज़ाहिर नहीं की.



Tuesday, January 25, 2011

Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


Khoon de ke lee hai aazadi maa teri
barbaad huee thee bahuen aur maatayen ghaneri
un ke patiyon aur puttron ke gun nitt hum gaayenege
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


Anaath unke the puttar aur putteriyan hue
jin-ho-ne teri khaatir maa maut ke
honth the chue
itnee mehegi aazadi ko  hum barbadi na banaayege
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


Jo toofaan ye chala hai dhokhe aur fareb ka
beda garak is ne kar diya hai kaum aur desh ka
Is toofan ka beda garak hum hee karayeneg
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


Jo yeh badhti mehaangai aur ghat-ti insaan ki kimat hai
bhadhaati bekaari aur ghata-ti sach ki  fitrat hai
jo maa ho sir pe tera haath to hum is ko mitaayenge
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


Fir hoga yahan sukh aur hogee sachhaee
bhagenge sabhi dukh aur baajegee shehnaee
Jalad is desh main hum RAM RAJYA laayenge
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


Neta jo baithe hai jamaaye kursi pe aassan
ek-ek ka chalta hai barson tak shssan
is ulti reet ko hum khatam karaayenge
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


Hoti jyoon hai ghore par kasi huee kathi
chalti hai gareeb per ameer ki yoon laathi
is laathi ke hum tukde karaayenge
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


adhik khojen kar kar ke hum
naye aayyam pe aayenge
mushkil hal jo parivaar niyojan se na ho saki
adhik utpaadan va charittar se 
woh guthi suljhayenge
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


saara up-vyay rok ke hum paisa desh ka bachaenge
swiss me pada saara paisa waapis yahan laayenge
aur fir yahee paisa desh kee tarakki mein lagayengew
pichde ilaakon ko hum unnat banayenge
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege


tan, man aur dhan desh kee seva mein lagayege
jo waqat aan pada to jaan bhee lutaayenge
"GHAYAL' is desh ko hum swarag banayenge
Maa teri Izzat ko chaar chand lagayenege

Friday, January 21, 2011

JINDGI NOO JINGI DA WAASTA




ROZ MERE KHWAB WICH AAYA KARO..
ZINGI NOO DARD DE JAAYA KARO

JINDGI NOO JINGI DA WAASTA
BE-GUNAHAN NOO NA TADPAYA KARO

JULAM MERE TE
TE GAIRAN TE KARAM

AAPNE HAN KUJH TARAS KHAAYA KARO

MEAINU KAR KE 'GHAYAL'
JAKHAM JO DITTE TUSAAN
MARHAM JE NAHEEN
LOON NA PAAYA KARO

Saturday, January 15, 2011

या उसको गुनह-गार लिखूं..

प्यार लिखूं, श्रृंगार लिखूं, या बहते अश्रुधार लिखूं, रोते-रोते जीत लिखूं या हँसते-हँसते हार लिखूं. ये कह दूं कि उसने मुझसे वादे करके तोड़ दिए या फिर मैं ही उसके दिल पर अपना हर इक वार लिखूं.. जाने मैंने मारा उसको या फिर खुद ही क़त्ल हुआ.. उसको अपना कातिल लिखूं या खुद को गद्दार लिखूं सपनो का वो शीशमहल, मैंने ही रचा और आग भी दी. अब जलते उसके सपने लिखूं या वो आँखें लाचार लिखूं.. खुद ही हर अपराध किया, और खुद ही न्यायाधीश बना.. न्याय-धर्म निभाऊं अब मैं, या उसको गुनह-गार लिखूं.. -

बहस जारी है

एक तरफ उसे सदियों से भारत में हिममानव, नेपाल में यति, अमेरिका में बिगफुट, ब्राजील में मपिंगुरे, आस्ट्रेलिया में योवेई, इंडोनेशिया में साजारंग गीगी जैसे नामों से पुकारा जाता है, और दूसरी तरफ उसके अस्तित्व पर ही प्रश्न चिह्न लगाया जाता है। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं कि बर्फीले पहाड़ों पर देखे और पहचाने गए विशालकाय वानर शरीर वाले हिममानव की। इनके अस्तित्व को लेकर बहस जारी है ????????????????????????????????????????

Sunday, January 9, 2011

SOCH VICHAR: आधार...........आपके बेहतर इंसान बनने का

SOCH VICHAR: आधार...........आपके बेहतर इंसान बनने का: "कोई हमारी सुन रहा है,तो क्यों सुन रहा है,इस पर विचार कीजिये। प्रेम,आवश्यकताया बेचारगी, इनमें सेकोई भीएक कारण हो सकता है। अबअपने द्वाराप्रताड..."

आधार...........आपके बेहतर इंसान बनने का

कोई हमारी सुन रहा है,

तो क्यों सुन रहा है,

इस पर विचार कीजिये।


प्रेम,

आवश्यकता

या बेचारगी,


इनमें से

कोई भी

एक कारण हो सकता है।


अब

अपने द्वारा

प्रताड़ित किये गये

व्यक्ति का

चेहरा याद कीजिये

और

देखिये

इनमें से

वह कौन सा कारण था

जिसने

उसे सहने पर मजबूर किया।


कारण मिलते ही

एक बार

आप खुद को छोटा महसूस करेंगे

पर फिर वही आधार बनेगा

आपके बेहतर इंसान बनने का।


Kuhda teri rehmat ka saya bahut hai

Kuhda teri rehmat ka saya bahut hai
Jaroori nahi too gale se lagaye

Hai kafi bas itna
ki roein agar hum
too de kar tassalli
zara muskraye

Woh shaitan kyoon ban gaye hain
yaa kah de naheen hain woh
hawwa ke jaye

Yahaan se
khushee bhagtee ja rahi hai
lapakte chale aar rahe gum ke saaye

Chaman ki zara bekasi dekhna tum
ki khud bag-ban
aashiyana lutaaye

Meri maut per
hans raha thaa zamana
Farishton ke aansoo
magar ruk na paaye

Hai kafi
ki malik nigahon main too hai

"GHAYAL"
 tujhe neend aaye-na-aaye
 (Kabar Main)

Friday, January 7, 2011

SOCH VICHAR: ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਮੇਰਾ ਬੇਲੀ

SOCH VICHAR: ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਮੇਰਾ ਬੇਲੀ: "ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਮੇਰਾ ਬੇਲੀ ਮੈਨੂੰ ਉਹ ਦਿਨ ਯਾਦ ਨਹੀਂ ਜਦ ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ 'ਘੋੜਾ' ਸੀ ਤੇ ਮੈਂ ਉਸ ਦੀ 'ਸਵਾਰੀ' ਪਰ ਉਹ ਦਿਨ ਮੈਨੂੰ ਨਹੀਂ ਭੁੱਲ ਸਕਦੇ ਜਦ ਬਾਪੂ ਦੇ ਮੋਢੇ ਚੜ੍ਹ ਦ..."

ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਮੇਰਾ ਬੇਲੀ


ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਮੇਰਾ ਬੇਲੀ ਮੈਨੂੰ ਉਹ ਦਿਨ ਯਾਦ ਨਹੀਂ ਜਦ ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ 'ਘੋੜਾ' ਸੀ ਤੇ ਮੈਂ ਉਸ ਦੀ 'ਸਵਾਰੀ' ਪਰ ਉਹ ਦਿਨ ਮੈਨੂੰ ਨਹੀਂ ਭੁੱਲ ਸਕਦੇ ਜਦ ਬਾਪੂ ਦੇ ਮੋਢੇ ਚੜ੍ਹ ਦੁਨੀਆਂ ਦੇਖੀ ਸਾਰੀ , ਕਿੱਡੀ ਵੱਡੀ ਦੌਲਤ ਸੀ ਉਹ ਛੋਟਾ ਪੈਸਾ ਜੋ ਚੱਕ ਭੱਜ ਜਾਣਾ ਤੇ ਕਰ ਜਾਣੀ ਖ਼ਾਲੀ ਬਾਪੂ ਦੇ ਹਥੇਲ਼ੀ। ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਮੇਰਾ ਬੇਲੀ ਮੈਨੂੰ ਤਾਂ ਉਹਨਾਂ ਲੋਕਾਂ ਦੀ ਸਮਝ ਨਾ ਆਵੇ ਜੋ ਮਹਿਤਾ ਕਾਲੂ ਨੂੰ 'ਖਲ਼ਨਾਇਕ' ਦੱਸਦੇ ਨੇ, ਕੀ ਉਹਨਾਂ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਬਾਬੇ ਨਾਨਕ ਦਾ ਬਚਪਨ ਨਜ਼ਰ ਨਾ ਆਵੇ? ਉਹਨਾਂ ਉਹ ਦ੍ਰਿਸ਼ ਮਨਫ਼ੀ ਕਿਉਂ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਜਦ ਬਾਬੇ ਦਾ ਬਾਪੂ ਮੋਢੇ ਚੱਕ ਖਿਡਾਵੇ? ਬਾਬਾ ਮਹਾਨ ਸੀ ਪਰ ਪਿਉ-ਦਿਲ ਨੂੰ ਸਮਝਣ ਦੀ ਕਿਸੇ ਕੋਸ਼ਿਸ਼ ਕਿਉਂ ਨਾ ਕੀਤੀ? ਇਹ ਉਹਨਾਂ ਲੋਕਾਂ ਬਾਬੇ ਦੇ ਬਾਪੂ ਦੀ ਕਿਹੜੀ ਤਸਵੀਰ ਪੇਸ਼ ਕੀਤੀ? ਉਹ ਤਾਂ ਬੱਸ ਬਾਪੂ ਸੀ, ਮੇਰੇ ਬਾਪੂ ਵਰਗਾ ਜੋ ਰਹਿਣਾ ਚਾਵੇ ਆਪਣੇ ਪੁੱਤ ਨਾਲ ਵਾਂਗ 'ਸੰਗ-ਸਹੇਲੀ' । ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਮੇਰਾ ਬੇਲੀ ਇਤਿਹਾਸ ਵਿਚ ਬੈਠਾ ਔਰਗਜ਼ੇਬ ਬਾਪੂ ਪੱਥਰ ਦਿਲ ਸੀ ਜੋ ਆਪਣੇ ਬਾਗ਼ੀ ਪੁੱਤ** ਨੂੰ ਮਾਰ ਮੁਕਾਵੇ, ਕਦੀ ਨਾਲ ਰੌਣ ਵਾਲਾ ਪੱਥਰ ਦਿਲ ਬਾਪੂ ਆਪਣੇ ਪੁੱਤ ਦੀ ਲਾਸ਼ 'ਤੇ ਫਿਰ ਫੁੱਟ-ਫੁੱਟ ਰੋਵੇ। ਸ਼ੁਕਰ ਹੈ ! ਸਾਡੇ ਤੋਂ ਕੋਈ ਰਾਜ ਭਾਗ ਨਹੀਂ ਹੈ, ਅਸੀਂ ਤਾਂ ਇਕ-ਦੂਜੇ ਦੇ ਸੁਪਨੇ 'ਤੇ ਹੀ ਆਪਣਾ 'ਮਹਿਲ' ਬਣਾਇਆ। ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਤਾਂ ਓਹੀ ਬਾਪੂ ਹੈ ਜੋ ਕਦੇ ਗੰਨੇ ਦੀ ਪੋਰੀ ਛਿੱਲ ਕੇ ਦਿੰਦਾ, ਕਦੇ ਦਿੰਦਾ ਸੀ ਗੁੜ ਦੀ ਭੇਲੀ । ਮੇਰਾ ਬਾਪੂ ਮੇਰਾ ਬੇਲੀ

SOCH VICHAR: मैं हूँ एक इंसान !

SOCH VICHAR: मैं हूँ एक इंसान !: "मैं हूँ एक इंसान ! मेरा व्यक्तित्व कितना महान !! मैं नित्यानंद भी हूँ, जो अपनी सेविकावों के साथ अश्लील कार्य करता हूँ !! मैं इच्छाधारी बाब..."

मैं हूँ एक इंसान !

मैं हूँ एक इंसान !
मेरा व्यक्तित्व कितना महान !!

मैं नित्यानंद भी हूँ,
जो अपनी सेविकावों के साथ अश्लील कार्य करता हूँ !!

मैं इच्छाधारी बाबा भी हूँ जो ,
स्कूली लड़कियों से लेकर एयर -होस्टेस सब को
अपने रैकेट में शामिल कर लेता हूँ !

मैं वो साइबर कैफे भी हूँ ,
जहा स्कूली लड़कियां स्कूल जाने के बहाने आकर अपनी ड्रेस बदल कर ,
अपने बॉय फ्रेंड्स के साथ सारा दिन घूमने के बाद,
फिर से आकर और ड्रेस पहेन कर अपने घर वापस जाती हैं !!

मैं वो शमसान भी हूँ जो गवाह हैं ,
लावारिश लाशो के साथ हुए बलात्कार का !!

मैं वो मंदिर भी हूँ ,
जहा आगे निकलने की होड़ में ,
लोग अपनी मर्यादा लाँघ जाते हैं !!

मैं वो जेल भी हूँ ,
जहाँ यैयाशी के सारे सामान आसानी से उपलब्ध हैं !!

मैं वो T२० की हरी हुई टीम भी हूँ .
जिसे हारने के बाद भी 3 करोड़ मिलते हैं .
पता नहीं ये हारने का इनाम है या
उस देश में जाकर मौज मस्ती करने का !!

मैं वो जनता भी हूँ ,
जो ये जानती है की किये गए वादे झूठे हैं ,
पर फिर भी उसी पार्टी को वोट करती हूँ !!

मैं वो वाहन चालक भी हूँ ,
जो बिना हेलमेट के पकडे जाने पैर .
चालान कटवाने से ज्यदा 50/- देने मैं विस्वास रखता हूँ !!

मैं वो भाई वो पिता वो माँ भी हूँ ,
जो सिर्फ इसलिए अपनी बहिन /बेटी और
दामाद को मार देते हैं की विवाह विजातीय था !!

मैं वो व्यवस्था भी हूँ ,
जहा अच्छे काम करने
वालो का तुरुन्त ट्रान्सफर कर देती हूँ !!

मैं वो लो - वेस्ट जींस भी हूँ ,
जो बाइक पर बैठते ही
अपने अंत: वस्त्रो का प्रदर्शन करती हूँ !!

मैं वो नग्नता भी हूँ ,
जो अब सिनेमा पटल से उतर कर सडको पर चली आई हूँ

मैं वो मूर्ति भी हूँ ,
जिसे एक नेता ने अपने जीवत रहते हुते चौराहे पर लगवा दिया !!

मैं वो औरत भी हूँ
जिसे उसके प्रेमी ने विवाह के बहाने ,
कोठे पर ला कर बेच दिया !!

मैं वो नव -विवाहिता भी हूँ ,
जिसे उसके ससुराल वालो ने
कम दहेज़ लेन के कारन जिन्दा जला दिया !!

मैं वो पुत्र भी हूँ ,
जो जायदाद के लिए
अपने पिता का खून कर देता हूँ !!

मैं वो जल भी हूँ ,
जिसके लिए लोग खून तक कर रहे हैं !!

यह तो एक झलक भर है मेरे व्यक्तित्व का .. फिर भी
मैं हूँ एक इंसान ,
मेरा व्यक्तित्व कितना महान !!

JAB SAANJH DHAL CHUKI HAI to kyoon na raat ho

Sazde ke liye uthta hai yeh dast hazar bar
per soch ke ruk jate hoon
kisko karoon salam

un ke aane ka guman sa hota hai
na jane kitni bar

par sochta hoon
shayad haseen khwab na ho

mani theen manntain
jo un-ke eh-le-karam keen
ab to hai yahi aarzoo
woh khuda ko na yaad hon

hai gardishe ayyam kuch raas yoon ayya
ab to hai yahi iltza
ab aur koe kukam na ho

umeedon ki lash pe hai khadi zar-zar-e zindgi
hai kaun is-ka wali
na maloom kab rooh fana ho

zadd-jahad kya kre 'GHayal' AB MAUT SE
JAB SAANJH DHAL CHUKI HAI
kyoon na raat ho